Shodhmanthan Vol. VIII 2017 No.4

१. जैन मत में ध्यान साधना – आस्था , मोहित कुमार


२. ग्रामीण महिला सशक्तिकरण एवं मनरेगा एक समाजशास्त्री विश्लेषण – डॉ. लालिमा सिंह


३. नागार्जुन की कविताओं में राजनैतिक चेतना –  राजनारायण शुक्ल


४. ग्रामीण अनुसूचित जातिओ की महिलाओ में राजनैतिक चेतना – डॉ. सुनीता अग्रवाल


५. भारत में मनवाधिकार की प्रासंगिकता वर्तमान परिप्रेक्षय में – डॉ. बृजेन्द्र सिंह


६. महिलाओ की वैधानिक स्थिति चुनौतियां एवं समस्याएं – डॉ. दर्शी चतुर्वेदी


७. भ्रष्टाचार  संकल्पना एवं ऐतिहासिक  परिदृश्य – डॉ. सुधीर कुमार


८. समकालीन  कला  में  भारतीय महिला  चित्रकारों का अग्रणीय स्थान – डॉ. कविता सिंह


९. महाविद्यालय  छात्र एवं छात्रों में एड्स जागरूकता एक समाजशास्त्रीय अध्ययन (शा . महाविद्यालय भितरवार ग्वालियर के विशेष सन्दर्भ में  – डॉ. (श्रीमती) डॉ. विमलेश अग्रवाल


१०. वैश्वीकरण के आर्थिक आयाम –डॉ. पवन कुमार शर्मा


११. मुस्लिम महिलाओ की स्वास्थय दशाओं का समाज शास्त्रीय अध्ययन  – डॉ. ज़किया रफत


१२ जौनसारी उत्सवों एवं मेलो में सामाजिक संचेतना – डॉ. अरविन्द  वर्मा , डॉ. निशांत भट्ट


१३. भारतीय पैठ बाजार का विश्लेषणात्मक अध्ययन – डॉ. रेनू देवी


१४. भारत में स्थानीय स्वशासन प्राचीन कल से वर्तमान समय तक – डॉ. शिवली अग्रवाल , कु. सोनिया वर्मा


१५. भारतीय धर्म एवं मूल्य भारतीय संस्कृति एवं सामाजिक मूल्यों का वर्गीकरण एवं मूल्य आधारित शिक्षा – पूजा शर्मा


१६. सम्प्रदायवाद : भारतीय समाज के लिए अभिशाप – डॉ. मनीषा रानी


१७. भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन एवं नेहरू – डॉ. बबिता सिंह


१८. प्रवासी साहित्य की कहानियो में भारतीय एवं विदेशी समाज का दवदव – दीबा


१९. आदिवासी कविताओं में झांकता विद्रोह एवं जीवन संघर्ष – सलीम अहमद


२०. ग्रामीण मुस्लिम परिवारों का समाजशास्त्रीय  अध्ययन – डॉ. ज़किया रफत


२१. भारत चीन सम्बद्ध : दशा और  दिशा अतीत से वर्तमान तक – डॉ शिवाली और पूनम